श्री त्र्यम्बकेश्वर ज्योतिर्लिंग – 8



Trayambakeshwar Jyotirling

त्रयंबकेश्वर ज्योतिर्लिंग बारह ज्योतिर्लिंगों में से एक है, जहां भगवान् शिव प्रकाश के स्तंभ के रूप में प्रकट हुए थे। यह मंदिर भारत के महाराष्ट्र राज्य में नासिक के पास त्रिंबक में स्थित है।

Trayambakeshwar Jyotirling
Trayambakeshwar Jyotirling

ज्योतिर्लिंग का महत्व यह है कि ये भगवान शिव के उच्चतम और प्रभावशाली प्रतीक हैं। ज्योति का अर्थ है प्रकाश या ज्योति, और लिंग का अर्थ है प्रतीक या संकेत। ज्योतिर्लिंग का अर्थ है “शिव के प्रकाश का संकेत”।

ज्योतिर्लिंग, शिव की सार्वभौमिकता, अनन्तता और सर्वशक्तिमानता का प्रतीक है।

ज्योतिर्लिंग में शिव के विभिन्न स्वरूप, कृपा, आशीर्वाद, महिमा और कथाएं प्रतिबिम्बित होती हैं।


त्र्यंबकेश्‍वर ज्योर्तिलिंग की सबसे बड़ी विशेषता क्या है?

त्र्यंबकेश्‍वर ज्योर्तिलिंग की सबसे बड़ी विशेषता यह है की यहाँ ब्रह्मा, विष्‍णु और महेश तीनों ही विराजित हैं। अन्‍य सभी ज्‍योतिर्लिंगों में केवल भगवान शिव ही विराजित हैं।

मंदिर के अंदर एक छोटे से गढ्ढे में तीन छोटे-छोटे लिंग है, जो ब्रह्मा, विष्णु और महेश, इन तीनों देवों के प्रतीक माने जाते हैं। और इसे सोने से बने मुकुट के आकार के आभूषण से ढका हुआ है।


त्र्यंबकेश्‍वर ज्योर्तिलिंग के इस पेज में?

त्र्यंबकेश्‍वर ज्योर्तिलिंग के इस पेज में सबसे पहले
– इस ज्योतिर्लिंग के बारें में संक्षेप में जानकारी दी गयी है और बाद में
– त्र्यंबकेश्‍वर ज्योर्तिलिंग की कथा और अंत में
– शिवपुराण में वर्णित त्र्यंबकेश्‍वर ज्योर्तिलिंग की कथा दी गयी है, की किस प्रकार
गौतम ऋषि से छल किया गया और फिर उनकी तपस्या और पूजा से भगवान् शिव, त्र्यम्बकेश्वर में प्रकट हुए।


ज्योतिर्लिंग स्तोत्र में श्री त्र्यम्बकेश्वर ज्योतिर्लिंग का महत्व

द्वादश ज्योतिर्लिंग स्तोत्र से श्री त्र्यम्बकेश्वर ज्योतिर्लिंग का श्लोक

बारह ज्योतिर्लिंग

द्वादश ज्योतिर्लिंग स्तोत्र

सह्याद्रिशीर्षे विमले वसन्तं
गोदावरितीरपवित्रदेशे।
यद्धर्शनात्पातकमाशु नाशं
प्रयाति तं त्र्यम्बकमीशमीडे॥

अर्थ: –
जो गोदावरीतटके पवित्र देशमें
सह्याद्रिपर्वतके विमल शिखरपर वास करते हैं,
जिनके दर्शनसे तुरंत ही पातक नष्ट हो जाता है,
उन श्रीत्र्यम्बकेश्वरका मैं स्तवन (अर्थात स्तुति) करता हूँ॥8॥


त्र्यम्बकेश्वर ज्योतिर्लिंग की जानकारी

त्र्यम्बकेश्वर ज्योतिर्लिंग कहाँ स्थित है?

त्र्यम्बकेश्वर ज्योतिर्लिंग महाराष्ट्र राज्य में नासिक से 30 किलोमीटर दूर त्रिंबक में स्थित है।

यह ठाणे से लगभग 157 किमी दूर है और मुंबई से 178 किलोमीटर।

त्रिंबक शहर पवित्र गोदावरी नदी का स्रोत भी है, जिसे भारत की सबसे पवित्र नदियों में से एक माना जाता है। माना जाता है कि यह नदी गंगा नदी का रूप है और गोदावरी में डुबकी लगाना हिंदुओं के लिए अत्यधिक शुभ माना जाता है।

हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, यह माना जाता है कि भगवान शिव ने मानव जाति के पापों को नष्ट करने के लिए स्वयं को त्रयंबकेश्वर ज्योतिर्लिंग के रूप में प्रकट किया था।

ज्योतिर्लिंग को भगवान शिव का अत्यधिक पूजनीय और शक्तिशाली प्रतीक माना जाता है।


नासिक कुंभ मेला

त्र्यंबकेश्वर दुनिया के सबसे बड़े धार्मिक आयोजनों में से एक कुंभ मेले के लिए भी प्रसिद्ध है।

कुंभ मेला हर बारह साल में होता है और इस शुभ अवसर पर लाखों तीर्थयात्री गोदावरी नदी में पवित्र स्नान करने के लिए इकट्ठा होते हैं।


पंच ज्योतिर्लिंग

त्रयंबकेश्वर को भीमाशंकर, घृष्णेश्वर, औंधा नागनाथ और परली वैजनाथ के साथ महाराष्ट्र के पांच ज्योतिर्लिंगों में से एक माना जाता है।

ये पांच ज्योतिर्लिंग मिलकर एक तीर्थयात्रा का रूट बनाते हैं, जिसे पंच ज्योतिर्लिंग यात्रा के नाम से जाना जाता है।


अनुष्ठान और त्यौहार

त्रयम्बकेश्वर ज्योतिर्लिंग के मंदिर में पूरे वर्ष भक्तों का आना-जाना लगा रहता है।

मंदिर में मनाए जाने वाले मुख्य त्योहारों में महाशिवरात्रि, श्रावण शिवरात्रि और कार्तिक पूर्णिमा शामिल हैं।

भगवान शिव के सम्मान में पुजारियों द्वारा विशेष अनुष्ठान और प्रार्थनाएँ की जाती हैं।

त्रयम्बकेश्वर ज्योतिर्लिंग भगवान शिव के भक्तों के लिए बहुत महत्व रखता है और दुनिया भर से तीर्थयात्रियों को आकर्षित करता है। यह न केवल पूजा स्थल है बल्कि भारत में सांस्कृतिक और धार्मिक महत्व का केंद्र भी है।


श्री त्र्यम्बकेश्वर ज्योतिर्लिंग की कथा

महर्षि गौतम और उनकी पत्नी अहिल्या

एक बार महर्षि गौतम की पत्नी अहिल्या से, उनके तपोवन में रहने वाले ब्राह्मणों की पत्नियाँ किसी बात पर नाराज हो गईं।

उन्होंने अपने पतियों को ऋषि गौतम का अपकार (अमंगल, हानि, अनिष्ट) करने के लिए प्रेरित किया।


महर्षि गौतम से किस प्रकार छल किया गया?

उन ब्राह्मणों ने इसके निमित्त भगवान्‌ श्रीगणेशजी की आराधना की।

उनकी आराधना से प्रसन्न हो गणेशजी ने प्रकट होकर उनसे वर मांगने को कहा उन ब्राह्मणों ने कहा – प्रभो! यदि आप हम पर प्रसन्न हैं तो किसी प्रकार ऋषि गौतम को इस आश्रम से बाहर निकाल दें।

उनकी यह बात सुनकर गणेशजी ने उन्हें ऐसा वर न मांगने के लिए समझाया। किंतु वे अपने आग्रह पर अटल रहे। अंततः गणेशजी को विवश होकर उनकी बात माननी पड़ी।

अपने भक्तों का मन रखने के लिए वे एक दुर्बल गाय का रूप धारण करके ऋषि गौतम के खेत में जाकर रहने लगे।

गाय को फसल चरते देखकर ऋषि बड़ी नरमी के साथ हाथ में तृण लेकर उसे हांकने के लिए लपके। उन तृणों का स्पर्श होते ही वह गाय वहीं गिर पड़ी और मर गयी।

अब तो बड़ा हाहाकार मचा। सारे ब्राह्मण एकत्र हो गो-हत्यारा कहकर ऋषि गौतम की भर्त्सना करने लगे। ऋषि गौतम इस घटना से बहुत आश्चर्यचकित और दुःखी थे।

अब उन सारे ब्राह्मणों ने कहा कि – तुम्हें यह आश्रम छोड़कर अन्यत्र कहीं दूर चले जाना चाहिए। गो-हत्यारे के निकट रहने से हमें भी पाप लगेगा।

विवश होकर ऋषि गौतम अपनी पत्नी अहिल्या के साथ वहां से एक कोस दूर जाकर रहने लगे।

किंतु उन ब्राह्मणों ने वहां भी उनका रहना दूभर कर दिया। वे कहने लगे – गो-हत्या के कारण तुम्हें अब वेद-पाठ और यज्ञादि के कार्य करने का कोई अधिकार नहीं रह गया।

अत्यंत अनुनय भाव से ऋषि गौतम ने उन ब्राह्मणों से प्रार्थना की कि, आप लोग मेरे प्रायश्चित और उद्धार का कोई उपाय बताएं।


महर्षि गौतम ने किस प्रकार भगवान् शिव की आराधना की?

तब उन्होंने कहा- गौतम! तुम अपने पाप को सर्वत्र सबको बताते हुए तीन बार पूरी पृथ्वी की परिक्रमा करो। फिर लौटकर यहां एक महीने तक व्रत करो।

इसके बाद ब्रह्मगिरी की 101 परिक्रमा करने के बाद तुम्हारी शुद्धि होगी अथवा यहां गंगाजी को लाकर उनके जल से स्नान करके एक करोड़ पार्थिव शिवलिंगों से शिवजी की आराधना करो।

इसके बाद पुनः गंगाजी में स्नान करके इस ब्रह्मगरी की 11 बार परिक्रमा करो।

फिर सौ घड़ों के पवित्र जल से पार्थिव शिवलिंगों को स्नान कराने से तुम्हारा उद्धार होगा।

ब्राह्मणों के कथनानुसार महर्षि गौतम वे सारे कार्य पूरे करके पत्नी के साथ पूर्णतः तल्लीन होकर भगवान्‌ शिव की आराधना करने लगे।


महर्षि गौतम ने भगवान् शिव से क्या माँगा?

इससे प्रसन्न हो भगवान्‌ शिव ने प्रकट होकर उनसे वर मांगने को कहा। महर्षि गौतम ने उनसे कहा – भगवान्‌ मैं यही चाहता हूँ कि, आप मुझे गो-हत्या के पाप से मुक्त कर दें।

भगवान्‌ शिव ने कहा – गौतम! तुम सर्वथा निष्पाप हो। गो-हत्या का अपराध तुम पर छलपूर्वक लगाया गया था। छलपूर्वक ऐसा करवाने वाले तुम्हारे आश्रम के ब्राह्मणों को मैं दण्ड देना चाहता हूँ।

इस पर महर्षि गौतम ने कहा कि – प्रभु! उन्हीं के निमित्त से तो मुझे आपका दर्शन प्राप्त हुआ है।

अब उन्हें मेरा परमहित समझकर उन पर आप क्रोध न करें।

बहुत से ऋषियों, मुनियों और देवगणों ने वहां एकत्र हो गौतम की बात का अनुमोदन करते हुए भगवान्‌ शिव से सदा वहां निवास करने की प्रार्थना की।

वे उनकी बात मानकर वहां त्र्यम्बक ज्योतिर्लिंग के नाम से स्थित हो गए।

गौतमजी द्वारा लाई गई गंगाजी भी वहां पास में गोदावरी नाम से प्रवाहित होने लगीं।

यह ज्योतिर्लिंग समस्त पुण्यों को प्रदान करने वाला है।


शिवपुराण में श्री त्र्यम्बकेश्वर ज्योतिर्लिंग कथा

त्र्यम्बकेश्वर परमेश्वरलिंगके प्रादुर्भाव और उसकी महिमाका वर्णन – शिवपुराण से

बारह ज्योतिर्लिंग

Shiv Stotra Aarti List

शिवपुराण के कोटिरुद्रसंहिता खंड के अध्याय 24, 25 में श्री ओंकारेश्वर, श्री त्र्यम्बकेश्वर ज्योतिर्लिंग के प्रादुर्भावकी कथा और उसकी महिमा दी गयी है –

  • त्र्यम्बक ज्योतिर्लिंगके प्रसंगमें महर्षि गौतमके द्वारा किये गये परोपकारकी कथा,
  • उनका तपके प्रभावसे अक्षय जल प्राप्त करके ऋषियोंकी अनावृष्टिके कष्टसे रक्षा करना;
  • ऋषियोंका छलपूर्वक उन्हें गोहत्यामें फँसाकर आश्रमसे निकालना और शुद्धिका उपाय बताना।
  • पत्नीसहित गौतमकी आराधनासे संतुष्ट हो भगवान् शिवका उन्हें दर्शन देना,
  • गंगाको वहाँ स्थापित करके स्वयं भी स्थिर होना,
  • देवताओंका वहाँ बृहस्पतिके सिंहराशिपर आनेपर गंगाजीके विशेष माहात्म्यको स्वीकार करना,
  • गंगाका गौतमी (या गोदावरी) नामसे और शिवका त्र्यम्बक ज्योतिर्लिंगके नामसे विख्यात होना तथा इन दोनोंकी महिमा

सूतजी कहते हैं – मुनिवरो! सुनो, मैंने सद्‌गुरु व्यासजीके मुखसे जैसी सुनी है, उसी रूपमें एक पापनाशक कथा तुम्हें सुना रहा हूँ।

पूर्वकालकी बात है, गौतम नामसे विख्यात एक श्रेष्ठ ऋषि रहते थे,
जिनकी परम धार्मिक पत्नीका नाम अहल्या था।

दक्षिण-दिशामें जो ब्रह्मगिरि है, वहीं उन्होंने दस हजार वर्षोंतक तपस्या की थी।

उत्तम व्रतका पालन करनेवाले महर्षियो! एक समय वहाँ सौ वर्षोंतक बड़ा भयानक अवर्षण हो गया। सब लोग महान् दुःखमें पड़ गये। इस भूतलपर कहीं गीला पत्ता भी नहीं दिखायी देता था। फिर जीवोंका आधारभूत जल कहाँसे दृष्टिगोचर होता।

उस समय मुनि, मनुष्य, पशु, पक्षी और मृग – सब वहाँसे दसों दिशाओंको चले गये।

तब गौतम ऋषिने छः महीनेतक तप करके वरुणको प्रसन्न किया।

वरुणने प्रकट होकर वर माँगनेको कहा – ऋषिने वृष्टिके लिये प्रार्थना की।

वरुणने कहा – “देवताओंके विधानके विरुद्ध वृष्टि न करके मैं तुम्हारी इच्छाके अनुसार तुम्हें सदा अक्षय रहनेवाला जल देता हूँ। तुम एक गड्ढा तैयार करो।”

उनके ऐसा कहनेपर गौतमने एक हाथ गहरा गड्ढा खोदा और वरुणने उसे दिव्य जलके द्वारा भर दिया तथा परोपकारसे सुशोभित होनेवाले मुनिश्रेष्ठ गौतमसे कहा –

“महामुने! कभी क्षीण न होनेवाला यह जल तुम्हारे लिये तीर्थरूप होगा और पृथ्वीपर तुम्हारे ही नामसे इसकी ख्याति होगी।

यहाँ किये हुए दान, होम, तप, देवपूजन तथा पितरोंका श्राद्ध – सभी अक्षय होंगे।”

ऐसा कहकर उन महर्षिसे प्रशंसित हो वरुणदेव अन्तर्धान हो गये।

उस जलके द्वारा दूसरोंका उपकार करके महर्षि गौतमको भी बड़ा सुख मिला।

महात्मा पुरुषका आश्रय मनुष्योंके लिये महत्त्वकी ही प्राप्ति करानेवाला होता है।

महान् पुरुष ही महात्माके उस स्वरूपको देखते और समझते हैं, दूसरे अधम मनुष्य नहीं।

मनुष्य जैसे पुरुषका सेवन करता है, वैसा ही फल पाता है।

महान् पुरुषकी सेवासे महत्ता मिलती है और क्षुद्रकी सेवासे क्षुद्रता।

उत्तम पुरुषोंका यह स्वभाव ही है कि वे दूसरोंके दुःखको नहीं सहन कर पाते।

अपनेको दुःख प्राप्त हो जाय, इसे भी स्वीकार कर लेते हैं, किंतु दूसरोंके दुःखका निवारण ही करते हैं।

दयालु, अभिमानशून्य, उपकारी और जितेन्द्रिय – ये पुण्यके चार खंभे हैं, जिनके आधारपर यह पृथ्वी टिकी हुई है।१ तदनन्तर गौतमजी वहाँ उस परम दुर्लभ जलको पाकर विधिपूर्वक नित्य-नैमित्तिक कर्म करने लगे।

उन मुनीश्वरने वहाँ नित्य-होमकी सिद्धिके लिये धान, जौ और अनेक प्रकारके नीवार बोआ दिये।

तरह-तरहके धान्य, भाँति-भाँतिके वृक्ष और अनेक प्रकारके फल-फूल वहाँ लहलहा उठे।

यह समाचार सुनकर वहाँ दूसरे-दूसरे सहस्रों ऋषि-मुनि, पशु-पक्षी तथा बहुसंख्यक जीव जाकर रहने लगे।

वह वन इस भूमण्डलमें बड़ा सुन्दर हो गया।

उस अक्षय जलके संयोगसे अनावृष्टि वहाँके लिये दुःखदायिनी नहीं रह गयी।

उस वनमें अनेक शुभकर्मपरायण ऋषि अपने शिष्य, भार्या और पुत्र आदिके साथ वास करने लगे।

उन्होंने कालक्षेप करनेके लिये वहाँ धान बोआ दिये।

गौतमजीके प्रभावसे उस वनमें सब ओर आनन्द छा गया।

एक बार वहाँ गौतमके आश्रममें जाकर बसे हुए ब्राह्मणोंकी स्त्रियाँ जलके प्रसंगको लेकर अहिल्यापर नाराज हो गयीं।

उन्होंने अपने पतियोंको उकसाया। उन लोगोंने गौतमका अनिष्ट करनेके लिये गणेशजीकी आराधना की।

भक्तपराधीन गणेशजीने प्रकट होकर वर माँगनेके लिये कहा – तब ये बोले “भगवन्! यदि आप हमें वर देना चाहते हैं तो ऐसा कोई उपाय कीजिये, जिससे समस्त ऋषि डाँट-फटकारकर गौतमको आश्रमसे बाहर निकाल दें।”

गणेशजीने कहा – ऋषियो! तुम सब लोग सुनो। इस समय तुम उचित कार्य नहीं कर रहे हो।

बिना किसी अपराधके उनपर क्रोध करनेके कारण तुम्हारी हानि ही होगी।

जिन्होंने पहले उपकार किया हो, उन्हें यदि दुःख दिया जाय तो वह अपने लिये हितकारक नहीं होता।

जब उपकारीको दुःख दिया जाता है, तब उससे इस जगत्‌में अपना ही नाश होता है। ऐसी तपस्या करके उत्तम फलकी सिद्धि की जाती है।

स्वयं ही शुभ फलका परित्याग करके अहितकारक फलको नहीं ग्रहण किया जाता।

ब्रह्माजीने जो यह कहा है कि असाधु कभी साधुताको और साधु कभी असाधुताको नहीं ग्रहण करता, यह बात निश्चय ही ठीक जान पड़ती है।

पहले उपवासके कारण जब तुमलोगोंको दुःख भोगना पड़ा था, तब महर्षि गौतमने जलकी व्यवस्था करके तुम्हें सुख दिया।

परंतु इस समय तुम सब लोग उन्हें दुःख दे रहे हो।संसारमें ऐसा कार्य करना कदापि उचित नहीं। इस बातपर तुम सब लोग सर्वथा विचार कर लो।

स्त्रियोंकी शक्तिसे मोहित हुए तुमलोग यदि मेरी बात नहीं मानोगे तो तुम्हारा यह बर्ताव गौतमके लिये अत्यन्त हितकारक ही होगा, इसमें संशय नहीं है।

ये मुनिश्रेष्ठ गौतम तुम्हें पुनः निश्चय ही सुख देंगे। अतः उनके साथ छल करना कदापि उचित नहीं। इसलिये तुमलोग कोई दूसरा वर माँगो।

सूतजी कहते हैं – ब्राह्मणो! महात्मा गणेशने ऋषियोंसे जो यह बात कही, वह यद्यपि उनके लिये हितकर थी, तो भी उन्होंने इसे नहीं स्वीकार किया।

तब भक्तोंके अधीन होनेके कारण उन शिवकुमारने कहा – “तुमलोगोंने जिस वस्तुके लिये प्रार्थना की है, उसे मैं अवश्य करूँगा। पीछे जो होनहार होगी, वह होकर ही रहेगी।”

ऐसा कहकर वे अन्तर्धान हो गये।

मुनीश्वरो! उसके बाद उन दुष्ट ऋषियोंके प्रभावसे तथा उन्हें प्राप्त हुए वरके कारण जो घटना घटित हुई, उसे सुनो।

वहाँ गौतमके खेतमें जो धान और जौ थे, उनके पास गणेशजी एक दुर्बल गाय बनकर गये।

दिये हुए वरके कारण वह गौ काँपती हुई वहाँ जाकर धान और जौ चरने लगी।

इसी समय दैववश गौतमजी वहाँ आ गये।

वे दयालु ठहरे, इसलिये मुट्ठीभर तिनके लेकर उन्हींसे उस गौको हाँकने लगे।

उन तिनकोंका स्पर्श होते ही वह गौ पृथ्वीपर गिर पड़ी और ऋषिके देखते-देखते उसी क्षण मर गयी।

वे दूसरे-दूसरे (द्वेषी) ब्राह्मण और उनकी दुष्ट स्त्रियाँ वहाँ छिपे हुए सब कुछ देख रहे थे।

उस गौके गिरते ही वे सब-के-सब बोल उठे – “गौतमने यह क्या कर डाला?”

गौतम भी आश्चर्यचकित हो, अहल्याको बुलाकर व्यथित हृदयसे दुःख-पूर्वक बोले –

“देवि! यह क्या हुआ, कैसे हुआ? जान पड़ता है परमेश्वर मुझपर कुपित हो गये हैं।

अब क्या करूँ? कहाँ जाऊँ? मुझे हत्या लग गयी।”

इसी समय ब्राह्मण और उनकी पत्नियाँ गौतमको डाँटने और दुर्वचनोंद्वारा अहल्याको पीड़ित करने लगीं।

उनके दुर्बुद्धि शिष्य और पुत्र भी गौतमको बारंबार फटकारने और धिक्कारने लगे।

ब्राह्मण बोले – अब तुम्हें अपना मुँह नहीं दिखाना चाहिये। यहाँसे जाओ, जाओ।

गोहत्यारेका मुँह देखनेपर तत्काल वस्त्र-सहित स्नान करना चाहिये।

जबतक तुम इस आश्रममें रहोगे, तबतक अग्निदेव और पितर हमारे दिये हुए किसी भी हव्य-कव्यको ग्रहण नहीं करेंगे।

इसलिये पापी गोहत्यारे! तुम परिवारसहित यहाँसे अन्यत्र चले जाओ। विलम्ब न करो।

सूतजी कहते हैं – ऐसा कहकर उन सबने उन्हें पत्थरोंसे मारना आरम्भ किया।

वे गालियाँ दे-देकर गौतम और अहल्याको सताने लगे।

उन दुष्टोंके मारने और धमकानेपर गौतम बोले – “मुनियो! मैं यहाँसे अन्यत्र जाकर रहूँगा”

ऐसा कहकर गौतम उस स्थानसे तत्काल निकल गये और उन सबकी आज्ञासे एक कोस दूर जाकर उन्होंने अपने लिये आश्रम बनाया।

वहाँ भी जाकर उन ब्राह्मणोंने कहा – “जबतक तुम्हारे ऊपर हत्या लगी है, तबतक तुम्हें कोई यज्ञ-यागादि कर्म नहीं करना चाहिये।

किसी भी वैदिक देवयज्ञ या पितृयज्ञके अनुष्ठानका तुम्हें अधिकार नहीं रह गया है।”

मुनिवर गौतम उनके कथनानुसार किसी तरह एक पक्ष बिताकर उस दुःखसे दुःखी हो बारंबार उन मुनियोंसे अपनी शुद्धिके लिये प्रार्थना करने लगे।

उनके दीनभावसे प्रार्थना करनेपर उन ब्राह्मणोंने कहा –

“गौतम! तुम अपने पापको प्रकट करते हुए तीन बार सारी पृथ्वीकी परिक्रमा करो।

फिर लौटकर यहाँ एक महीनेतक व्रत करो।

उसके बाद इस ब्रह्मगिरिकी एक सौ एक परिक्रमा करनेके पश्चात् तुम्हारी शुद्धि होगी।

अथवा यहाँ गंगाजीको ले आकर उन्हींके जलसे स्नान करो तथा एक करोड़ पार्थिवलिंग बनाकर महादेवजीकी आराधना करो।

फिर गंगामें स्नान करके इस पर्वतकी ग्यारह बार परिक्रमा करो।

तत्पश्चात् सौ घड़ोंके जलसे पार्थिव शिवलिंगको स्नान करानेपर तुम्हारा उद्धार होगा।”

उन ऋषियोंके इस प्रकार कहनेपर गौतमने “बहुत अच्छा” कहकर उनकी बात मान ली।

वे बोले – “मुनिवरो! मैं आप श्रीमानोंकी आज्ञासे यहाँ पार्थिवपूजन तथा ब्रह्मगिरिकी परिक्रमा करूँगा।”

ऐसा कहकर मुनिश्रेष्ठ गौतमने उस पर्वतकी परिक्रमा करनेके पश्चात् पार्थिवलिंगोंका निर्माण करके उनका पूजन किया।

साध्वी अहल्याने भी साथ रहकर वह सब कुछ किया।

उस समय शिष्य-प्रशिष्य उन दोनोंकी सेवा करते थे।

सूतजी कहते हैं – पत्नीसहित गौतम ऋषिके इस प्रकार आराधना करनेपर संतुष्ट हुए भगवान् शिव वहाँ शिवा और प्रमथगणोंके साथ प्रकट हो गये।

तदनन्तर प्रसन्न हुए कृपानिधान शंकरने कहा – “महामुने! मैं तुम्हारी उत्तम भक्तिसे बहुत प्रसन्न हूँ।

तुम कोई वर माँगो।” उस समय महात्मा शम्भुके सुन्दर रूपको देखकर आनन्दित हुए गौतमने भक्तिभावसे शंकरको प्रणाम करके उनकी स्तुति की।

लंबी स्तुति और प्रणाम करके दोनों हाथ जोड़कर वे उनके सामने खड़े हो गये और बोले – “देव! मुझे निष्पाप कर दीजिये।” भगवान् शिवने कहा – मुने! तुम धन्य हो, कृतकृत्य हो और सदा ही निष्पाप हो।

इन दुष्टोंने तुम्हारे साथ छल किया। जगत्‌के लोग तुम्हारे दर्शनसे पापरहित हो जाते हैं।

फिर सदा मेरी भक्तिमें तत्पर रहनेवाले तुम क्या पापी हो? मुने! जिन दुरात्माओंने तुमपर अत्याचार किया है, वे ही पापी, दुराचारी और हत्यारे हैं।

उनके दर्शनसे दूसरे लोग पापिष्ठ हो जायँगे।

वे सब-के-सब कृतघ्न हैं। उनका कभी उद्धार नहीं हो सकता।

महादेवजीकी यह बात सुनकर महर्षि गौतम मन-ही-मन बड़े विस्मित हुए।

उन्होंने भक्तिपूर्वक शिवको प्रणाम करके हाथ जोड़ पुनः इस प्रकार कहा।

गौतम बोले – महेश्वर! उन ऋषियोंने तो मेरा बहुत बड़ा उपकार किया।

यदि उन्होंने यह बर्ताव न किया होता तो मुझे आपका दर्शन कैसे होता? धन्य हैं वे महर्षि, जिन्होंने मेरे लिये परम कल्याणकारी कार्य किया है।

उनके इस दुराचारसे ही मेरा महान् स्वार्थ सिद्ध हुआ है।

गौतमजीकी यह बात सुनकर महेश्वर बड़े प्रसन्न हुए।

उन्होंने गौतमको कृपादृष्टिसे देखकर उन्हें शीघ्र ही यों उत्तर दिया।

शिवजी बोले – विप्रवर! तुम धन्य हो, सभी ऋषियोंमें श्रेष्ठतर हो।

मैं तुमपर बहुत प्रसन्न हुआ हूँ। ऐसा जानकर तुम मुझसे उत्तम वर माँगो।

गौतम बोले – नाथ! आप सच कहते हैं, तथापि पाँच आदमियोंने जो कह दिया या कर दिया, वह अन्यथा नहीं हो सकता।

अतः जो हो गया, सो रहे।

देवेश! यदि आप प्रसन्न हैं तो मुझे गंगा प्रदान कीजिये और ऐसा करके लोकका महान् उपकार कीजिये।

आपको मेरा नमस्कार है, नमस्कार है।

यों कहकर गौतमने देवेश्वर भगवान् शिवके दोनों चरणारविन्द पकड़ लिये और लोकहितकी कामनासे उन्हें नमस्कार किया।

तब शंकरदेवने पृथिवी और स्वर्गके सारभूत जलको निकालकर, जिसे उन्होंने पहलेसे ही रख छोड़ा था और विवाहमें ब्रह्माजीके दिये हुए जलमेंसे जो कुछ शेष रह गया था, वह सब भक्तवत्सल शम्भुने उन गौतम मुनिको दे दिया।

उस समय गंगाजीका जल परम सुन्दर स्त्रीका रूप धारण करके वहाँ खड़ा हुआ।

तब मुनिवर गौतमने उन गंगाजीकी स्तुति करके उन्हें नमस्कार किया।

गौतम बोले – गंगे! तुम धन्य हो, कृतकृत्य हो।

तुमने सम्पूर्ण भुवनको पवित्र किया है।

इसलिये निश्चितरूपसे नरकमें गिरते हुए मुझ गौतमको पवित्र करो।

तदनन्तर शिवजीने गंगासे कहा – देवि! तुम मुनिको पवित्र करो और तुरंत वापस न जाकर वैवस्वत मनुके अट्ठाईसवें कलियुगतक यहीं रहो।

गंगाने कहा – महेश्वर! यदि मेरा माहात्म्य सब नदियोंसे अधिक हो और अम्बिका तथा गणोंके साथ आप भी यहाँ रहें, तभी मैं इस धरातलपर रहूँगी।

गंगाजीकी यह बात सुनकर भगवान् शिव बोले – गंगे! तुम धन्य हो।

मेरी बात सुनो।

मैं तुमसे अलग नहीं हूँ, तथापि मैं तुम्हारे कथनानुसार यहाँ स्थित रहूँगा।

तुम भी स्थित होओ।

अपने स्वामी परमेश्वर शिवकी यह बात सुनकर गंगाने मन-ही-मन प्रसन्न हो उनकी भूरि-भूरि प्रशंसा की।

इसी समय देवता, प्राचीन ऋषि, अनेक उत्तम तीर्थ और नाना प्रकारके क्षेत्र वहाँ आ पहुँचे।

उन सबने बड़े आदरसे जय-जयकार करते हुए गौतम, गंगा तथा गिरिशायी शिवका पूजन किया।

तदनन्तर उन सब देवताओंने मस्तक झुका हाथ जोड़कर उन सबकी प्रसन्नतापूर्वक स्तुति की।

उस समय प्रसन्न हुई गंगा और गिरीशने उनसे कहा – “श्रेष्ठ देवताओ! वर माँगो।

तुम्हारा प्रिय करनेकी इच्छासे वह वर हम तुम्हें देंगे।” देवता बोले – देवेश्वर! यदि आप संतुष्ट हैं और सरिताओंमें श्रेष्ठ गंगे! यदि आप भी प्रसन्न हैं तो हमारा तथा मनुष्योंका प्रिय करनेके लिये आपलोग कृपापूर्वक यहाँ निवास करें।

गंगा बोलीं – देवताओ! फिर तो सबका प्रिय करनेके लिये आपलोग स्वयं ही यहाँ क्यों नहीं रहते? मैं तो गौतमजीके पापका प्रक्षालन करके जैसे आयी हूँ, उसी तरह लौट जाऊँगी।

आपके समाजमें यहाँ मेरी कोई विशेषता समझी जाती है, इस बातका पता कैसे लगे? यदि आप यहाँ मेरी विशेषता सिद्ध कर सकें तो मैं अवश्य यहाँ रहूँगी – इसमें संशय नहीं है।

सब देवताओंने कहा – सरिताओंमें श्रेष्ठ गंगे! सबके परम सुहृद् बृहस्पतिजी जब-जब सिंहराशिपर स्थित होंगे, तब-तब हम सब लोग यहाँ आया करेंगे, इसमें संशय नहीं है।

ग्यारह वर्षोंतक लोगोंका जो पातक यहाँ प्रक्षालित होगा, उससे मलिन हो जानेपर हम उसी पापराशिको धोनेके लिये आदरपूर्वक तुम्हारे पास आयेंगे।

हमने यह सर्वथा सच्ची बात कही है।

सरिद्वरे! महादेवि! अतः तुमको और भगवान् शंकरको समस्त लोकोंपर अनुग्रह तथा हमारा प्रिय करनेके लिये यहाँ नित्य निवास करना चाहिये।

गुरु जबतक सिंहराशिपर रहेंगे, तभीतक हम यहाँ निवास करेंगे।

उस समय तुम्हारे जलमें त्रिकालस्नान और भगवान् शंकरका दर्शन करके हम शुद्ध होंगे।

फिर तुम्हारी आज्ञा लेकर अपने स्थानको लौटेंगे।

सूतजी कहते हैं – इस प्रकार उन देवताओं तथा महर्षि गौतमके प्रार्थना करनेपर भगवान् शंकर और सरिताओंमें श्रेष्ठ गंगा दोनों वहाँ स्थित हो गये।

वहाँकी गंगा गौतमी (गोदावरी) नामसे विख्यात हुईं और भगवान् शिवका ज्योतिर्मय लिंग त्र्यम्बक कहलाया।

यह ज्योतिर्लिंग महान् पातकोंका नाश करनेवाला है।

उसी दिनसे लेकर जब-जब बृहस्पति सिंहराशिमें स्थित होते हैं, तब-तब सब तीर्थ, क्षेत्र, देवता, पुष्कर आदि सरोवर, गंगा आदि नदियाँ तथा श्रीविष्णु आदि देवगण अवश्य ही गौतमीके तटपर पधारते और वास करते हैं।

वे सब जबतक गौतमीके किनारे रहते हैं, तबतक अपने स्थानपर उनका कोई फल नहीं होता।

जब वे अपने प्रदेशमें लौट आते हैं, तभी वहाँ इनके सेवनका फल मिलता है।

यह त्र्यम्बक नामसे प्रसिद्ध ज्योतिर्लिंग गौतमीके तटपर स्थित है और बड़े-बड़े पातकोंका नाश करनेवाला है।

जो भक्तिभावसे इस त्र्यम्बक लिंगका दर्शन, पूजन, स्तवन एवं वन्दन करता है, वह समस्त पापोंसे मुक्त हो जाता है।

गौतमके द्वारा पूजित त्र्यम्बक नामक ज्योतिर्लिंग इस लोकमें समस्त अभीष्टोंको देनेवाला तथा परलोकमें उत्तम मोक्ष प्रदान करनेवाला है।

मुनीश्वरो! इस प्रकार तुमने जो कुछ पूछा था, वह सब मैंने कह सुनाया।

अब और क्या सुनना चाहते हो, कहो।

मैं उसे भी तुम्हें बताऊँगा, इसमें संशय नहीं है।


बारह ज्योतिर्लिंग की कथाएं



Shiv Stotra Mantra Aarti Chalisa Bhajan


List