Shiv Shankar Ko Jisne Puja – Adhyatmik Arth



शिव शंकर को जिसने पूजा भजन का आध्यात्मिक अर्थ

शिव शंकर को जिसने पूजा एक बहुत ही खूबसूरत भजन है, जिसमे हर पंक्ति भगवान शिव की पूजा करने और उनका आशीर्वाद पाने के महत्व पर प्रकाश डालती हैं।

इस भजन में यह बताया गया है की किस प्रकार भगवान शिव की भक्ति और ध्यान से आध्यात्मिक मुक्ति प्राप्त की जा सकती है, साथ ही उनके दिव्य गुणों के प्रति श्रद्धा और प्रशंसा भी व्यक्त की जा सकती है।

भजन की पंक्तियाँ भगवान शिव के परोपकारी और दयालु स्वभाव को भी उजागर करती हैं, जो सभी प्राणियों के लिए अपनी करुणा प्रदान करते है।


Part 1

शिव शंकर को जिसने पूजा, उसका ही उद्धार हुआ
अंत:काल को भवसागर में, उसका बेडा पार हुआ
भोले शंकर की पूजा करो, ध्यान चरणों में इसके धरो
हर हर महादेव शिव शम्भू, हर हर महादेव शिव शम्भू

शिव शंकर को जिसने पूजा, उसका ही उद्धार हुआ

जो कोई भी भगवान शिव की पूजा करता है, उन्हें मोक्ष की प्राप्ति होती है। यह पंक्ति इस बात पर जोर देती है कि जो लोग भगवान शिव की पूजा और भक्ति में संलग्न होते हैं वे जन्म और मृत्यु के चक्र से मुक्त हो जाते हैं और आध्यात्मिक मुक्ति प्राप्त करते हैं।

अंतकाल को भवसागर में, उसका बेड़ा पार हुआ

सांसारिक अस्तित्व के सागर में, वे जन्म और मृत्यु के चक्र को पार करने में सक्षम हैं। यह पंक्ति दर्शाती है कि भगवान शिव का आशीर्वाद और कृपा प्राप्त करके, कोई व्यक्ति जीवन और मृत्यु के अंतहीन चक्र को पार कर सकता है और भौतिक संसार से मुक्ति प्राप्त कर सकता है।

भोले शंकर की पूजा करो, ध्यान चरणों में इसके धरो

भगवान शिव की पूजा करें, उनके चरणों का ध्यान करें। यह पंक्ति भक्तों को भगवान शिव की पूजा और ध्यान में संलग्न होने के लिए प्रोत्साहित करती है, उनका ध्यान उनके दिव्य चरणों पर केंद्रित करती है। यह भक्ति प्रथाओं और भगवान शिव की दिव्य उपस्थिति की तलाश के महत्व पर प्रकाश डालता है।

हर हर महादेव शिव शम्भू

यह वाक्यांश भगवान शिव के प्रति श्रद्धा और स्तुति का उद्घोष है। “हर हर” एक मंत्र है जो बुरी ताकतों पर जीत का प्रतीक है, “महादेव” महान देवता को संदर्भित करता है, और “शिव शंभू” भगवान शिव के नाम और विशेषण हैं। यह वाक्यांश भगवान शिव की महानता और दिव्य प्रकृति को स्वीकार करते हुए भक्ति की एक उत्कट अभिव्यक्ति है।


Part 2

डमरूवाला है जग में दयालु बड़ा
दीनदुखियो का दाता जगत का पिता
सब पे करता है यह भोला शंकर दया
सब को देता है यह आसरा

डमरू वाला है जग में दयालु बड़ा

भगवान शिव, जो डमरू (एक छोटा दो तरफा ड्रम) धारण करते हैं, दुनिया में अत्यधिक दयालु हैं। यह पंक्ति भगवान शिव के दयालु स्वभाव और अपने भक्तों पर दया बरसाने की उनकी क्षमता पर प्रकाश डालती है।

दीन दुखियो का दाता जगत का पिता

भगवान शिव दुखियों को शांति देने वाले और संपूर्ण जगत के पिता हैं। यह पंक्ति भगवान शिव को एक दयालु व्यक्ति और सार्वभौमिक पिता के रूप में चित्रित करती है, जो पीड़ित लोगों को आराम और सहायता प्रदान करते हैं ।

सब पे करता है ये भोला शंकर दया

भोला शंकर, भगवान शिव का दूसरा नाम, सभी पर अपनी कृपा बरसाते हैं। यह पंक्ति इस बात पर जोर देती है कि भगवान शिव की करुणा सभी प्राणियों पर फैली हुई है, चाहे उनकी पृष्ठभूमि, स्थिति या योग्यता कुछ भी हो।

सबको देता है ये आसरा

भगवान शिव सभी को अपना आश्रय देते हैं। यह पंक्ति दर्शाती है कि भगवान शिव उन सभी को अपनी सुरक्षा और सहायता प्रदान करते हैं जो उनकी शरण में आते हैं। इसका तात्पर्य यह है कि जो कोई भी ईमानदारी और भक्ति के साथ उनके पास आएगा उसे उसकी सहायता और मार्गदर्शन प्राप्त होगा।


Part 3

इन पावन चरणों में अर्पण, आकर जो एक बार हुआ
अंत: काल को भवसागर में, उसका बेडा पार हुआ
ओम नमो शिवाय नमो, हरी ओम नमो शिवाय नमो
हर हर महादेव शिव शम्भू, हर हर महादेव शिव शम्भू

पावन चरणों में अर्पण, आकर जो एक बार हुआ

इन पवित्र चरणों में समर्पित होकर, यदि कोई एक बार आ जाए। यह पंक्ति भक्तों को भगवान शिव के दिव्य चरणों में खुद को पूरी तरह से समर्पित करने के लिए प्रोत्साहित करती है। यह सुझाव देती है कि भगवान शिव के प्रति स्वयं को पूर्ण समर्पण और भक्ति अर्पित करके, कोई भी उनकी दिव्य कृपा प्राप्त कर सकता है।

अंतकाल को भवसागर में, उसका बेड़ा पार हुआ

अंत में, वे सांसारिक अस्तित्व के सागर को पार करने में सक्षम होते हैं। यह पंक्ति दर्शाती है कि भगवान शिव का आशीर्वाद और कृपा प्राप्त करके, कोई भी जन्म और मृत्यु के चक्र को पार कर सकता है, जिसे यहां सांसारिक अस्तित्व के विशाल महासागर के रूप में दर्शाया गया है।


Part 4

नाम ऊँचा है सबसे महादेव का,
वंदना इसकी करते हैं सब देवता
इसकी पूजा से वरदान पाते हैं सब
शक्ति का दान पाते हैं सब
नाग असुर प्राणी सब पर ही, भोले का उपकार हुआ
अंत काल को भवसागर में, उसका बेडा पार हुआ

नाम ऊँचा है सबसे महादेव का

भगवान शिव का नाम सबसे ऊंचा है. यह पंक्ति स्वीकार करती है कि देवताओं के सभी नामों और रूपों में भगवान शिव का नाम सबसे अधिक महत्व और शक्ति रखता है।

वंदना इसकी करते हैं सब देवता

सभी देवी-देवता उन्हें नमस्कार करते हैं। यह पंक्ति दर्शाती है कि अन्य देवता भी भगवान शिव का सम्मान करते हैं और उनकी सर्वोच्च स्थिति और दिव्य गुणों को पहचानते हैं।

इसकी पूजा से वरदान पाते हैं सब

उनकी आराधना से सभी को आशीर्वाद मिलता है। यह पंक्ति इस बात पर जोर देती है कि भगवान शिव की पूजा और भक्ति में संलग्न होने से व्यक्तियों को दिव्य आशीर्वाद और वरदान प्राप्त होते हैं।

शक्ति का दान पाते हैं सब:
शक्ति का उपहार सभी को प्राप्त होता है। यह पंक्ति बताती है कि भगवान शिव की पूजा करने से भक्तों को दैवीय शक्ति और आंतरिक शक्ति प्राप्त होती है। भगवान शिव को शक्ति और ऊर्जा का दाता माना जाता है।

नाग असुर प्राणी सब पर ही, भोले का उपकार हुआ

यहां तक कि नाग राक्षसों और सभी प्राणियों को भी भगवान शिव की कृपा प्राप्त होती है। यह पंक्ति बताती है कि भगवान शिव की करुणा, प्राणियों और नकारात्मक शक्तियों सहित सभी प्राणियों पर फैली हुई है। वह सभी को अपना आशीर्वाद और परोपकार प्रदान करते हैं।

अंतकाल को भवसागर में, उसका बेड़ा पार हुआ
अंत में, वे सांसारिक अस्तित्व के सागर को पार करने में सक्षम होते हैं।


Summary

कुल मिलाकर ये पंक्तियाँ भगवान शिव की महानता और परोपकारिता को उजागर करती हैं। वे इस बात पर जोर देते हैं कि उनकी पूजा करने और उनके प्रति समर्पण करने से, व्यक्तियों को आशीर्वाद, शक्ति और भौतिक दुनिया को पार करने और मुक्ति प्राप्त करने की क्षमता प्राप्त होती है। यह सभी प्राणियों तक फैली भगवान शिव की कृपा और उनके दिव्य आशीर्वाद की तलाश में भक्ति और समर्पण के महत्व को रेखांकित करती है।


Shiv Shankar Ko Jisne Puja

Anuradha Paudwal


Shiv Shankar Ko Jisne Puja – Lyrics in Hindi

शिव शंकर को जिसने पूजा, उसका ही उद्धार हुआ
अंत:काल को भवसागर में, उसका बेडा पार हुआ
भोले शंकर की पूजा करो, ध्यान चरणों में इसके धरो
हर हर महादेव शिव शम्भू, हर हर महादेव शिव शम्भू


डमरूवाला है जग में दयालु बड़ा
दीनदुखियो का दाता जगत का पिता
सब पे करता है यह भोला शंकर दया
सब को देता है यह आसरा

इन पावन चरणों में अर्पण, आकर जो एक बार हुआ
अंत: काल को भवसागर में, उसका बेडा पार हुआ
ओम नमो शिवाय नमो, हरी ओम नमो शिवाय नमो
हर हर महादेव शिव शम्भू, हर हर महादेव शिव शम्भू


नाम ऊँचा है सबसे महादेव का,
वंदना इसकी करते हैं सब देवता
इसकी पूजा से वरदान पाते हैं सब
शक्ति का दान पाते हैं सब

नाग असुर प्राणी सब पर ही, भोले का उपकार हुआ
अंत काल को भवसागर में, उसका बेडा पार हुआ


शिव शंकर को जिसने पूजा, उसका ही उद्धार हुआ
अंत:काल को भवसागर में, उसका बेडा पार हुआ
भोले शंकर की पूजा करो, ध्यान चरणों में इसके धरो
हर हर महादेव शिव शम्भू, हर हर महादेव शिव शम्भू

Shiv Stotra, Aarti, Bhajan