Satyam Shivam Sundaram – Lyrics in Hindi



सत्यम शिवम सुन्दरम

ईश्वर सत्य है, सत्य ही शिव है, शिव ही सुन्दर है
जागो उठ कर देखो, जीवन ज्योत उजागर है
सत्यम शिवम सुन्दरम, सत्यम शिवम् सुन्दरम


सत्यम शिवम सुन्दरम, सुन्दरम
सत्यम शिवम सुन्दरम, सत्यम शिवम् सुन्दरम


राम अवध में, काशी में शिव, कान्हा वृन्दावन में
दया करो प्रभु, देखू इनको हर घर के आँगन में,
राधा मोहन शरणम, सत्यम शिवम सुन्दरम….


एक सूर्य है, एक गगन है, एक ही धरती माता
दया करो प्रभु, एक बने सब, सबका एक से नाता
राधा मोहन शरणम, सत्यम शिवम् सुन्दरम…..


इश्वर सत्य है, सत्य ही शिव है, शिव ही सुन्दर है
सत्यम शिवम् सुन्दरम, सत्यम शिवम् सुन्दरम

इश्वर सत्य है, सत्य ही शिव है,
शिव ही सुन्दर है
सत्यम शिवम् सुन्दरम


सत्यम शिवम सुंदरम – आध्यात्मिक अर्थ


सत्यम शिवम सुंदरम गीत ईश्वर से की गई एक भक्तिपूर्ण प्रार्थना है, जो इस विचार को व्यक्त करता है कि सत्य, सौंदर्य और दिव्यता एक ही हैं। इस गाने को इसकी मधुर धुन, भावपूर्ण आवाज और आध्यात्मिक संदेश के लिए सराहा गया है।

“सत्यम शिवम सुंदरम” के बोल गहन आध्यात्मिक अर्थ बताते हैं।

सत्यम् शिवम् सुन्दरम्, सत्यम् शिवम् सुन्दरम्
ये शब्द पूरे गीत में दोहराए जाते हैं, सच्चाई, अच्छाई और सुंदरता के महत्व और महत्व पर जोर देते हैं।

ईश्वर सत्य है, सत्य ही शिव है, शिव ही सुन्दर है“:
यह पंक्ति बताती है कि भगवान सत्य और अच्छाई का अवतार है, और सत्य भगवान शिव का पर्याय है, जो सुंदरता का भी प्रतीक है।

जागो उठ कर देखो, जीवन ज्योत उजागर है“:
यह पंक्ति व्यक्तियों को जागृत होने और यह महसूस करने के लिए प्रोत्साहित करती है कि जीवन का दिव्य प्रकाश उनके भीतर है। यह उन्हें आंतरिक प्रकाश को समझने और उसे अपने जीवन में प्रसारित करने के लिए प्रेरित करता है।

राम अवध में, काशी में शिव, कान्हा वृन्दावन में“:
यह श्लोक विभिन्न रूपों और स्थानों में देवत्व की उपस्थिति पर प्रकाश डालता है। इसमें अवध में भगवान राम, काशी (वाराणसी) में भगवान शिव और वृन्दावन में भगवान कृष्ण का उल्लेख है, जो हर घर में भगवान की कृपा और आशीर्वाद को आमंत्रित करता है।

दया करो प्रभु, देखू इनको हर घर के आँगन में,“:
इस पंक्ति में भगवान से प्रार्थना है कि वे करुणा और कृपा बरसाएं, जिससे लोगों को हर घर में उनकी दिव्य उपस्थिति महसूस करने का मौका मिले।

एक सूर्य है, एक गगन है, एक ही धरती माता“:
यह श्लोक समस्त सृष्टि की एकता और अंतर्संबंध को व्यक्त करता है। इसमें कहा गया है कि एक सूर्य, एक आकाश और एक धरती माता है, जो सभी प्राणियों के बीच एकता और सद्भाव की आवश्यकता पर बल देती है।

दया करो प्रभु, एक बने सब, सबका एक से नाता“:
समापन पंक्ति सभी के बीच एकता और एकता की भावना को बढ़ावा देने के लिए प्रभु की कृपा और आशीर्वाद का अनुरोध करती है, इस बात पर जोर देती है कि हम सभी जुड़े हुए हैं और हमें एक दूसरे के साथ इसी तरह व्यवहार करना चाहिए।

कुल मिलाकर, “सत्यम शिवम सुंदरम” के बोल हमें अपने भीतर की दिव्य प्रकृति की याद दिलाते हैं और हमें हमारे आस-पास की दुनिया में मौजूद अंतर्निहित सत्य, अच्छाई और सुंदरता को पहचानने के लिए प्रोत्साहित करते हैं। वे हमें अपनी आंतरिक रोशनी को जागृत करने और एकता, करुणा और सद्भाव की भावना को बढ़ावा देने के लिए प्रेरित करते हैं।


सत्यम शिवम सुंदरम 1978 में रिलीज़ हुई इसी नाम की फिल्म, सत्यम शिवम सुंदरम, का एक लोकप्रिय भजन है।

इस भजन को लता मंगेशकर ने गाया था और लक्ष्मीकांत प्यारेलाल ने संगीतबद्ध किया था।

गीत के बोल पंडित नरेंद्र शर्मा ने लिखे थे और यह गाना शशि कपूर और जीनत अमान पर फिल्माया गया था।


Satyam Shivam Sundaram

Lata Mangeshkar


Shiv Stotra Mantra Aarti Chalisa Bhajan