Aao Mahima Gaye Bhole Nath Ki – Adhyatmik Arth



आओ महिमा गाए भोले नाथ की भजन का आध्यात्मिक अर्थ

Part 1

आओ महिमा गाए भोले नाथ की
भक्ति में खो जाए भोले नाथ की
भोले नाथ की जय, शम्भू नाथ की जय
गौरी नाथ की जय, दीना नाथ की जय

आओ महिमा गाए भोले नाथ की

आइये, भगवान शिव का गुणगान करें। यह श्लोक सभी को भगवान शिव की महिमा गाने, सामूहिक भक्ति को प्रोत्साहित करने और उनके दिव्य गुणों के उत्सव में शामिल होने के लिए आमंत्रित करता है।

भक्ति में खो जाए भोले नाथ की

आइए हम भोलेनाथ (भगवान शिव) की भक्ति में खो जाएं। यह पंक्ति भक्ति के माध्यम से खुद को पूरी तरह से भगवान शिव के प्रति समर्पित करने और उनकी पूजा में लीन होने से मिलने वाले दिव्य आनंद का अनुभव करने के विचार पर जोर देती है।

भोले नाथ की जय, शम्भू नाथ की जय,
गौरी नाथ की जय, दीना नाथ की जय

दयालु भगवान शिव और देवी गौरी (पार्वती) की जय। ये पंक्तियाँ भगवान शिव, उनकी पत्नी देवी गौरी (पार्वती) को नमस्कार और विजय मंत्र प्रस्तुत करती हैं, और जरूरतमंद लोगों के लिए रक्षक और प्रदाता के रूप में भगवान शिव के पहलू को स्वीकार करती हैं।


Part 2

मुख पर तेज है, अंग भभूती, गले सर्प की माला।
माथे चन्द्रमा, जटा में गंगा, शिव का रूप निराला॥
अन्तर्यामी, सबका स्वामी, भक्तो का रखवाला।
तिनों लोको में बाँट रहा है, ये दिन रात उजाला॥
जय बोलो, जय बोलो भोले नाथ की
भक्ति में खो जाए भोले नाथ की

मुख पर तेज है, अंग भभूती, गले सर्प की माला।

उनके चेहरे से अत्यधिक तेज झलकता है, शरीर राख से ढका हुआ है और एक साँप उनके गले में माला की तरह सुशोभित है। यह श्लोक श्मशान घाट की राख (भभूति) से सुशोभित भगवान शिव के अनोखे स्वरूप का वर्णन करता है, जो भौतिक संपत्ति से वैराग्य का प्रतीक है। उनके गले का साँप भय और जीवन और मृत्यु के चक्र पर उनके नियंत्रण का प्रतिनिधित्व करता है।

माथे चन्द्रमा, जटा में गंगा, शिव का रूप निराला॥

चंद्रमा उनके माथे को सुशोभित करता है, गंगा नदी उनकी जटाओं से बहती है, और उनका दिव्य रूप अतुलनीय है। यह श्लोक भगवान शिव के विशिष्ट स्वरूप के बारे में विस्तार से बताता है, जिसमें उनके माथे पर अर्धचंद्र है, जो शीतलता और शांति का प्रतीक है। उनकी जटाओं से बहती गंगा नदी आध्यात्मिक पवित्रता से उनके जुड़ाव का संकेत देती है।

अन्तर्यामी, सबका स्वामी, भक्तो का रखवाला।

वह सब जानने वाले, सबके भगवान और अपने भक्तों के रक्षक हैं।
यह पंक्ति भगवान शिव को सर्वज्ञ और सर्वशक्तिमान के रूप में चित्रित करती है जो सभी प्राणियों के भीतर निवास करते हैं, ब्रह्मांड के अंतिम शासक और अपने भक्तों के संरक्षक हैं।

तिनों लोको में बाँट रहा है, ये दिन रात उजाला॥

उनकी महिमा तीनों लोकों में गूंजती है; उसकी रोशनी दिन-रात चमकती रहती है। यह श्लोक इस बात पर जोर देता है कि भगवान शिव की दिव्य उपस्थिति और प्रसिद्धि सभी लोकों में फैली हुई है, और उनकी दिव्य रोशनी दिन और रात दोनों समय प्रकाशित होती है, जो उनके शाश्वत और व्यापक स्वभाव का प्रतीक है।

जय बोलो, जय बोलो भोले नाथ की, भक्ति में खो जाए भोले नाथ की

भगवान शिव की जय बोलें, आइये भोले नाथ (भगवान शिव) की भक्ति में डूब जाएँ। यह पंक्तियाँ भगवान शिव की स्तुति करने और उन्हें मनाने के आह्वान को दोहराती हैं, भक्तों से उनकी भक्ति में पूरी तरह से लीन होने का आग्रह करती हैं।


Part 3

पी के भंग तरंग में, जब जब भोला शंकर आए।
हाथ में अपने डमरू ले कर, नाचे और नचाये॥
जो भी श्रध्दा और भक्ति की, मन में ज्योत जगाये।
मेरा भोला शंकर उस पर, अपना प्यार लुटाये॥

पी के भंग तरंग में, जब जब भोला शंकर आए।

यह पंक्ति भगवान शिव के भांग नामक नशीले पेय के साथ संबंध को दर्शाती है, जिसे अक्सर उनकी पूजा से जोड़ा जाता है। इसमें भगवान शिव की प्रसन्न और निश्चिंत छवि को दर्शाया गया है, जिन्हें अक्सर एक चंचल और उत्साही देवता के रूप में चित्रित किया जाता है।

हाथ में अपने डमरू ले कर, नाचे और नचाये॥

वह अपना डमरू (एक छोटा ढोल) पकड़कर नाचते हैं और दूसरों को भी नचाते हैं। भगवान शिव को अक्सर एक लौकिक नर्तक के रूप में चित्रित किया जाता है, और उनके पास मौजूद डमरू सृष्टि की लय का प्रतीक है। उनका दिव्य नृत्य, जिसे तांडव के नाम से जाना जाता है, एक रचनात्मक और विनाशकारी शक्ति माना जाता है, जो जीवन और ब्रह्मांड के चक्रों का प्रतिनिधित्व करता है।

जो भी श्रध्दा और भक्ति की, मन में ज्योत जगाये।

जो कोई भी अपने हृदय में आस्था और भक्ति की ज्योति जलाता है। यह श्लोक भगवान शिव से जुड़ने में आस्था और भक्ति के महत्व पर प्रकाश डालता है। यह सुझाव देता है कि जो लोग अपने हृदय में भक्ति की लौ जलाते हैं वे उनकी दिव्य उपस्थिति का अनुभव कर सकते हैं।


Summary

कुल मिलाकर, ये भजन गीत भगवान शिव के प्रति गहरी श्रद्धा और भक्ति की अभिव्यक्ति हैं, जो उनके दिव्य गुणों, अद्वितीय स्वरूप और सर्वव्यापी प्रकृति को स्वीकार करते हैं।

छंद भगवान शिव के प्रति भक्ति और स्तुति व्यक्त करते हैं, उनके दिव्य गुणों पर प्रकाश डालते हैं और भक्तों से भक्ति में डूबने का आग्रह करते हैं।

वे भक्तों को परमात्मा से जुड़े रहने के आनंद का अनुभव करने के लिए खुद को भक्ति में समर्पित करने के लिए प्रोत्साहित करते हैं।


भजन एक साथ आने और भगवान शिव की स्तुति और महिमा गाने का निमंत्रण है।

यह भक्तों को भोले नाथ (भगवान शिव का दूसरा नाम) के दिव्य गुणों और ब्रह्मांडीय शक्ति के प्रति अपनी भक्ति और श्रद्धा व्यक्त करने के लिए प्रोत्साहित करता है।

भजन के बोल भगवान शिव के विस्मयकारी गुणों का वर्णन करते हैं, जैसे कि उनकी तीसरी आंख, उनकी जटा, उनका त्रिशूल, और आशीर्वाद देने और भक्तों की इच्छाओं को पूरा करने की उनकी क्षमता।

यह भगवान शिव की भव्यता और पारलौकिक प्रकृति पर जोर देता है और सभी को उनकी दिव्य उपस्थिति का जश्न मनाने में भाग लेने के लिए आमंत्रित करता है।

भजन अक्सर भक्तों के जीवन में भगवान शिव की उदारता और मार्गदर्शन के लिए उनका आभार व्यक्त करता है।

इसमें भक्तों के बीच एकता और भक्ति की भावना को मजबूत करते हुए, उनकी महिमा का सामूहिक गायन करने का आह्वान किया गया है।

“आओ महिमा गये भोले नाथ की” आमतौर पर लयबद्ध ताल के साथ उत्साह और ऊर्जा के साथ गाया जाता है।

यह आमतौर पर भगवान शिव को समर्पित धार्मिक समारोहों, त्योहारों और सत्संगों (भक्ति सभाओं) के दौरान किया जाता है।


Aao Mahima Gaye Bhole Nath Ki


Aao Mahima Gaye Bhole Nath Ki – Lyrics in Hindi

आओ महिमा गाए भोले नाथ की
भक्ति में खो जाए भोले नाथ की


भोले नाथ की जय, शम्भू नाथ की जय
गौरी नाथ की जय, दीना नाथ की जय
आओ महिमा गाए भोले नाथ की
भक्ति में खो जाए भोले नाथ की


मुख पर तेज है, अंग भभूती, गले सर्प की माला।
माथे चन्द्रमा, जटा में गंगा, शिव का रूप निराला॥

अन्तर्यामी, सबका स्वामी, भक्तो का रखवाला।
तिनों लोको में बाँट रहा है, ये दिन रात उजाला॥
जय बोलो, जय बोलो भोले नाथ की
भक्ति में खो जाए भोले नाथ की


भोले नाथ की जय, शम्भू नाथ की जय
गौरी नाथ की जय, दीना नाथ की जय
आओ महिमा गाए भोले नाथ की
भक्ति में खो जाए भोले नाथ की


हरी ओम नमः शिवाय नमो,
हरी ओम नमः शिवाय नमो
हरी ओम नमः शिवाय नमो,
हरी ओम नमः शिवाय नमो


पी के भंग तरंग में, जब जब भोला शंकर आए।
हाथ में अपने डमरू ले कर, नाचे और नचाये॥
जो भी श्रध्दा और भक्ति की, मन में ज्योत जगाये।
मेरा भोला शंकर उस पर, अपना प्यार लुटाये॥

जय बोलो, जय बोलो भोले नाथ की
भक्ति में खो जाए भोले नाथ की


भोले नाथ की जय, शम्भू नाथ की जय
गौरी नाथ की जय, दीना नाथ की जय
आओ महिमा गाए भोले नाथ की
भक्ति में खो जाए भोले नाथ की


भव पार लगाते शिव भोले, बिगड़ी बनाते ये शिव भोले।
कष्ट निवारे ये शिव भोले, दुःख दूर करे ये शिव भोले॥

जय बोलो दीनानाथ की, जय बोलो गौरीनाथ की
जय बोलो बद्रीनाथ की, जय बोलो शम्भूनाथ की


है सबसे न्यारे शिव भोले।
है डमरू धारी धारी शिव भोले।
भोले भंडारी शिव भोले।

जय बोलो दीनानाथ की, जय बोलो गौरीनाथ की
जय बोलो बद्रीनाथ की, जय बोलो शम्भूनाथ की

भव पार लगाते शिव भोले, बिगड़ी बनाते शिव भोले।
कष्ट निवारे शिव भोले, दुःख दूर करे ये शिव भोले।


आओ महिमा गाए भोले नाथ की
भक्ति में खो जाए भोले नाथ की